Hindi News

FIFA World Cup 2018: इस विश्व कप में मेसी का पहला गोल था टूर्नामेंट का 100वां गोल

मौजूदा चैंपियन जर्मनी रूस में जारी फीफा विश्व कप-2018 से बाहर हो गया है. किम यंग ग्वोन और सोन हियुंग मिन के इंजरी टाइम में दागे गोलों की बदौलत साउथ कोरिया ने विश्व कप के ग्रुप एफ मैच में बुधवार को कजान में विश्व चैंपियन जर्मनी को 2-0 से हराकर टूर्नामेंट के पहले दौर से ही बाहर कर दिया. कोरिया की ओर से ग्वोन (90 प्लस दो मिनट) और सोन हियुंग मिन (90 प्लस छह मिनट) दोनों ने इंजरी टाइम में गोल दागे.

पिछले पांच विश्व कप में यह चौथा मौका है जब गत चैंपियन टीम पहले दौर में ही टूर्नामेंट से बाहर हो गई. इससे पहले 2002 में फ्रांस, 2010 में इटली और 2014 में स्पेन को इस तरह की मायूसी का सामना करना पड़ा था. जर्मनी की टीम पहली बार विश्व कप के ग्रुप चरण की बाधा को पार करने में विफल रही है. वह 16वीं बार विश्व कप में खेल रही थी और पहली बार पहले दौर से आगे बढ़ने में नाकाम रही. कोरिया की टीम भी विश्व कप से बाहर हो गई.

ग्रुप एफ में जर्मनी की टीम तीन मैचों में एक जीत और दो हार के बाद तीन अंक के साथ अंतिम स्थान पर रही. कोरिया ने भी एक जीत और दो हार से तीन अंक जुटाकर तीसरा स्थान हासिल किया. इस ग्रुप से मेक्सिको और स्वीडन 6-6 अंक जुटाकर प्रीक्वार्टर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहे.

 

मैच के महत्वपूर्ण मौके

मैच के सात मिनट हो चुके हैं. अभी ये समझ में आना मुश्किल लग रहा है कि जर्मनी ज्यादा बेहतर खेल रहा है या कोरिया. निश्चित तौर पर जर्मनी एक मजबूत टीम है जो कुछ देर के खेल के बाद संभवत लय में आएगी. नौवें मिनट में कोरिया के जुंग को यलो कार्ड दिखाया गया

कोरिया ने पूरी तरह से रक्षात्मक रवैया अपनाया हुआ है. उसके चार खिलाड़ी पीछे खेल रहे हैं जबकि सोन अकेले आगे हैं. उनका साथ देने के लिए कू हैं जो उनके ठीक पीछे की लाइन में खेल रहे हैं.

18वें मिनट में कोरिया को फ्री किक मिली, जिसे जू वू यंग ने लिया. उस पर जर्मन गोलकीपर मैनुएल नूएर ने एक बारगी तो कोरिया को गोल भेंट में दे दिया होता लेकिन वो बाल बाल बच गया. हालांकि मैनुएल नूएर जैसे विश्व स्तरीय गोलकीपर से इस तरह की उम्मीद नहीं की जा सकती थी. 23 वें मिनट में कोरिया के जेएस ली को यलो कार्ड दिखाया गया.

जर्मनी की ओर से मेसुत ओजिल, टिमो वेर्नर, मार्को रीयूस और लियोन गोरेट्ज्का लगातार हमले कर रहे हैं. जर्मनी ने अपने खेल से कोरिया पर दबदबा बना रखा है लेकिन पहले हाफ का आधा खेल होने के बाद भी कोई गोल देखने को नहीं मिला है. निक्लास सुइले और लियोन गोरेट्ज्का जर्मनी की ओर से विश्व कप में खेलने वाले क्रमश 221वें और 222वें खिलाड़ी बन गए. केवल ब्राजील (259) और इटली (228) ही ऐसी टीमें हैं जिनकी ओर से इससे ज्यादा खिलाड़ियों ने विश्व कप में भाग लिया हो

निक्लास सुइले और लियोन गोरेट्ज्का के विश्व कप में पदार्पण के साथ अब केवल जर्मनी की ओर से मैथियस गिंटर एकमात्र ऐसे खिलाड़ी रह गए हैं, जो इस विश्व कप में मैदान पर नहीं उतरे हैं.

साउथ कोरिया की टीम ने भले ही इस विश्व कप में एक भी मैच में जीत हासिल नहीं की है और वह पहले ही बाहर हो चुकी है. लेकिन इस मैच में उसका लक्ष्य जीत के साथ सम्मानपूर्वक अपने विश्व कप अभियान का समापन करने का है. इसी वजह से मौजूदा विजेता जर्मनी के लिए साउथ कोरिया के खिलाफ अंतिम ग्रुप मैच मुश्किल हो गया है.

पहले हाफ में पांच मिनट का खेल बचा है और जर्मनी अभी भी खाता खोलने के लिए संघर्ष कर रहा है. हालांकि गेंद पर उसका पजेशन भी कोरिया के मुकाबले ज्यादा है लेकिन वो मिले मौकों को गोल के अवसरों में बदलने में सफल नहीं हो पा रहा है

इसके बाद हालांकि मैट हमल्स ने जर्मनी के लिए अभी तक का सर्वश्रेष्ठ मौका उपलब्ध कराया, लेकिन कोरिया के जो हनीवू ने उसे नाकाम कर दिया. पहले हाफ में इंजरी टाइम का खेल चल रहा है. यानी पहला हाफ गोलरहित रहा. ये स्थिति जर्मनी के लिए अच्छी नहीं है.

दूसरे हाफ की शुरुआत जर्मनी के बड़े हमले के साथ हुई. लियोन गोरेट्ज्का ने करीब से एक हेडर लगाया जो कोरिया के जो हियोनवू ने बचा लिया. कोरियाई टीम अब 4-2-3-1 के प्रारूप से खेल रही है. 70 मिनट का खेल हो चुका है, लेकिन कोरिया जर्मनी को गोल करने का कोई मौका नहीं दे रहा है. इस बीच में वो भी मौके तलाश रहा है लेकिन उसके पास फिनिशिंग टच की कमी है

जर्मनी के मारियो गोमेच का एक साफ गोल होने का मौका ने कोरिया ने नहीं बनने दिया. इसके बाद जर्मन फैंस की निराशा देखने लायक थी. लगता है मानो आज भाग्य मौजूदा चैंपियन के साथ नहीं है

हालांकि मैच के पेस में कोई कमी नहीं आई है लेकिन जर्मनी की कोई कोशिश भी रंग नहीं ला रही है. कोरियाई टीम ने भी काउंटर अटैक पर कुछ मौके बनाए, मैच का अंतिम समय चल रहा है. अंतिम क्षणों में जर्मनी के मैट्स हमल्स ने छह गज की दूरी से हेडर लगाया जो मामूली अंतर से निशाने से चूक गया. सिर्फ वह ही नहीं इस टीम के लाखों फैंस इस पर यकीन नहीं कर पा रहे होंगे

अंतिम पलों में जब कोरिया ने गोल कर दिया तो वो ऑफ साइड करार दिया गया. लेकिन बाद में रेफरल में वो गोल घोषित कर दिया. कोरिया ने इंजुरी टाइम में एक और गोल कर दिया, उसकी बढ़त 2-0 की हो गई है. दूसरा गोल 90 प्लस 6 मिनट में सोन ने किया. कोरिया ने जर्मनी को 2-0 से हराकर शान से विदाई ली

Source : hindi.firstpost.com

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *